US Elections 2020: अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव 2020 के लिए वोटिंग शुरू हो चुकी है। रिपब्लिकन उम्मीदवार और राष्ट्रपति Donald Trump का मुकाबला डेमोक्रैटिक पार्टी के उम्मीदवार Joe Biden से है।

अमेरिका में 3 नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग शुरू हो गई है. न्यू यॉर्क, न्यू जर्सी और वर्जिनिया में पोलिंग शुरू हो गई है. वहीं, ABC न्यूज के मुताबिक मेन, केंटकी, कनेक्टिकट, इंडियाना, ओहायो और नार्थ कैरोलिना में भी वोटिंग शुरू हो गई है. स्विंग स्टेट माने जाने वाले जॉर्जिया में भी लोगों ने वोट देना शुरू कर दिया है.

बाइडेन की पहली जीत

3 नवंबर की आधी रात में ही न्यू हैंपशायर के एक छोटे से शहर डिक्सविल नौच में पांच वोट डाले गए थे. CNN के मुताबिक, जो बाइडेन ने पांचों ही वोट जीत लिए हैं. ये शहर यूएस-कनाडा बॉर्डर पर स्थित है.

CNN की रिपोर्ट के मुताबिक, ये देश में उन पहली जगहों में से एक है, जो राष्ट्रपति चुनाव का नतीजा सबसे पहले घोषित करती है.

वहीं, मिल्सफील्ड में भी आधी रात को पोलिंग शुरू हुई और CNN का कहना है कि यहां ट्रंप का पलड़ा बाइडेन से भारी दिख रहा है.

रिकॉर्ड-तोड़ अर्ली वोटिंग

बीबीसी के मुताबिक, करीब 10 करोड़ अमेरिकियों ने 3 नवंबर को पोलिंग शुरू होने से पहले ही वोट दे दिया है. इतनी ज्यादा अर्ली वोटिंग की वजह से अमेरिका में रिकॉर्ड टर्नआउट आ सकता है. 2016 में जितनी वोटिंग हुई थी, इस बार अर्ली वोटिंग उसकी दो-तिहाई से ज्यादा हो गई है.

CNN की एक रिपोर्ट का कहना है कि ये वोट 47 फीसदी से ज्यादा रजिस्टर्ड वोटर का टर्नआउट है.

पोल सर्वे में बाइडेन आगे

बता दें कि अमेरिका में हुए प्री पोल सर्वे के मुताबिक जो बाइडेन का पलड़ा भारी नजर आ रहा है. साथ ही शुरुआती वोटिंग में भी बाइडेन के समर्थकों ने बाहर निकलकर जमकर वोटिंग की. अब ये देखना दिलचस्प होगा कि जो फाइनल वोटिंग चल रही है उसमें ट्रंप समर्थक कितनी संख्या में वोट डालते हैं. जानकारों का मानना है कि अभी ट्रंप को रेस से बाहर बताना ठीक नहीं होगा, क्योंकि पिछली बार भी कुछ ऐसे ही कयास लगाए गए थे, लेकिन ट्रंप ने आखिर में बाजी

ट्रंप के खिलाफ माहौल?

हालांकि इस बार ट्रंप के सामने सबसे बड़ी चुनौती कोरोना वायरस महामारी थी. जिसके मैनजमेंट में वो बुरी तरह से फेल हुए. अमेरिका में करीब 2 लाख से भी ज्यादा लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है. वहीं कुल मामले एक करोड़ के नजदीक पहुंच चुके हैं. ऐसे में अमेरिका में ट्रंप के खिलाफ माहौल बनता नजर आया था. जिसका असर चुनाव के नतीजों पर साप दिख सकता है. साथ ही इकनॉमी रिवाइवल को लेकर भी ट्रंप ज्यादा कुछ नहीं कर पाए हैं.

By Desk

error: Content is protected !!