शारदीय नवरात्रि की शुरुआत गत 17 अक्टूबर 2020 से हो चुकी है. आज नवरात्रि का पांचवा दिन है. नवरात्रि में अष्टमी और नवमी तिथि पर घरों और मंदिरो में कन्या पूजन किया जाता है. नवरात्रि के बाद कन्या पूजन का विशेष महत्व माना गया है. इस बार नवरात्रि पूरे नौ दिन के है.

दरअसल इस बार नवरात्रि में अष्टमी, नवमी और दशमी तिथि को लेकर कुछ संशय की स्थिति बन रही है. लेकिन हिन्दू पंचांग के अनुसार सप्तमी तिथि 23 अक्टूबर 2020 (शुक्रवार) को पड़ रही है. वहीं अष्टमी तिथि भी 23 अक्टूकर (शुक्रवार) की सुबह 06 बजकर 57 मिनट पर शुरू हो जाएगी, जो कि शनिवार 24 अक्टूबर की सुबह 6 बजकर 58 मिनट तक रहेगी. उसके बाद नवमी तिथि लग जाएगी.

यानि कि कंजक पूजन शनिवार नहीं शुक्रवार को होगा. इस मामले में नार्थ इंडिया के सभी पंडित अपनी अलग-अलग राय दे रहे हैं. कुछ कह रहे हैं कि शनिवार को कंजक पूजन करना ठीक होगा, लेकिन ज्यादातर पंडित शुक्रवार को सही बता रहे हैं. उनका कहना है कि शनिवार की सुबह सूर्य उदय होने के बाद अष्टमी का लग्न खत्म हो जाएगा.

इसके अलावा नवमी तिथि 24 अक्टूबर की सुबह 6 बजकर 58 मिनट से शुरू होकर 25 अक्टूबर की सुबह 7 बजकर 41 मिनट तक रहेगी. इसके बाद दशमी तिथि लग जाएगी. दशमी तिथि 25 अक्टूबर की सुबह 7 बजकर 41 मिनट से प्रारंभ होगी, जो 26 अक्टूबर के दिन सुबह 9 बजे समाप्त हो जाएगी. दशमी तिथि 25 अक्टूबर की सुबह लग जाने के कारण विजय दशमी पर्व इसी दिन मनाया जाएगा.

By Desk

error: Content is protected !!