रावण, मेघनाथ ओर कुंभकर्ण के पुतले बनाने वाले कारीगरों का काम हुआ कम ,कई हुए बेरोजगार

कोरोना महामारी के चलते जहां सारे काम प्रभावित हुए है वही अब इस का असर त्योहारों पर भी पड़ता दिख रहा है बात करे दशहरे के त्योहार की तो इस साल महामारी की वजह से बहुत ही कम जगह पर रामलीला का मंचन किया जा रहा है और इस वजह से रावण, मेघनाथ ओर कुंभकर्ण के पुतलों की डिमांड में भारी गिरावट है और इस गिरावट की वजह से इस व्यवसाए से सबंधित कारीगरों का भारी नुकसान हो रहा है कई जगह पर बहुत कम काम है तो कई स्थान ऐसे है जहां पहले इन दिनों रावण, मेघनाथ ओर कुंभकर्ण के पुतलों की भरमार होती थी आज वहां सुनसान पड़ी हुई है।
इस सबंधी जब इस काम से सबंधित कारीगरों वरिंदर कुमार व विशाल कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस साल क्रोना महामारी की वजह से रामलीला का बहुत कम जगह पर मंचन किया जा रहा है इस लिए इस साल पिछले साल मुकाबले काम आधा भी नही है। उन्होंने बताया कि कई कारीगर तो ऐसे है जिन्हें रोजगार ही नही मिला।

error: Content is protected !!