2861 विद्यार्थियों हुए बूस्टर क्लबों में शामिल।

शिक्षा विभाग की तरफ से राज्य के सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों को अंग्रेज़ी भाषा बोलने और लिखने में परिपक्व बनाने के लिए किये जा रहे प्रयासों के अंतर्गत पठानकोट जिले के 154 स्कूलों में बूस्टर क्लब स्थापित हो गए हैं। ज़िला शिक्षा अफ़सर (सै.) जगजीत सिंह ने बताया कि अंग्रेज़ी भाषा प्रति झिझक और डर को दूर करके अंग्रेज़ी भाषा के सही उच्चारण सहित भाषा कौशलों का विकास करने के उद्देश्य के साथ स्थापित किये गए’अंग्रेज़ी बूस्टर क्लबों’ की स्थापना से अध्यापकों के साथ-साथ विद्यार्थियों में पैदा हुए उत्साह से इस तरह प्रतीत होता है कि अब वह दिन भी दूर नहीं जब सरकारी स्कूलों के विद्यार्थी भी फराटेदार अंग्रेज़ी बोल सकेंगे और अनेकों प्राईवेट स्कूलों में से हट कर सरकारी स्कूलों में दाख़िल हुए विद्यार्थियों के अभिभावकों द्वारा सरकारी स्कूलों के प्रति व्यक्त किया गया विश्वास पहले से ज्यादा परिपक्व होगा। अंग्रेज़ी विषय के ज़िला मैटर समीर शर्मा के अनुसार जिले के 154 सरकारी स्कूलों में स्थापित बूस्टर क्लबों में 2861 विद्यार्थी शामिल हो चुके हैं। जिस के लिए स्कूल प्रमुख और अध्यापक बधाई के पात्र हैं।
इस संबंधी प्रिंसिपल सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल कीड़ी का कहना हैं कि चाहे विभाग की तरफ से दिए दिशा -निर्देशों अनुसार इन क्लबों में स्कूल प्रमुख, अंग्रेज़ी लैक्चरर, अंग्रेज़ी मास्टर /मिस्ट्रेस का शामिल होना ज़रूरी है और बाकी स्कूल स्टाफ अपनी मर्जी से मैंबर बन सकता है। परन्तु इन क्लबों में अपनी स्वैच्छिकता के साथ मैंबर बनने वाले बाकी स्कूल अध्यापकों की संख्या में हो रही बढ़ोतरी इस बात का प्रमाण है कि बूस्टर कल्ब सभी अध्यापकों की पहली पसंद बन रहें हैं। बलबीर सिंह अंग्रेज़ी लैक्चरर सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल घियाला और सुनीता अत्तरी अंग्रेजी लैक्चरर सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल मीरथल का कहना है कि विभाग की इस पहलकदमी से विद्यार्थियों में अंग्रेज़ी विषय प्रति रुचि विकसित होने के कारण विषय के नतीजे भी उत्तम आएंगे। उन्होंने कहा कि इस संबंधी की गई पूर्ण योजनाबंदी से वह विद्यार्थियों को पहले अंग्रेज़ी बोलने की आडियो सामग्री मुहैया करवा रहे हैं जिस को बड़े उत्साह से विद्यार्थियों द्वारा सुन कर अपना उच्चारण शुद्ध किया जा रहा है। साथ ही विद्यार्थियों को अपनी अंग्रेज़ी बोलते हुए वीडियो बनाने के लिए ज़रूरी नुक्ते भी बताएं जा रहे हैं। विद्यार्थियों के अभिभावक अपने बच्चों को अंग्रेज़ी भाषा आत्मविश्वास के साथ बोलते देख कर प्रसन्न हो रहे हैं। अंग्रेज़ी विषय के ब्लाक मैटर सिद्धार्थ चंद्र स्टेट अवार्डी सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल जंगल का कहना है कि उन को पूर्ण भरोसा है कि अंग्रेज़ी विषय के अध्यापक विद्यार्थियों में अंग्रेज़ी विषय के भिन्न -भिन्न कौशलों का विकास करते हुए अनेकों अभिभावकों में सरकारी स्कूलों में अंग्रेज़ी विषय की पढ़ाई संबंधी पैदा हुए शंकाओं को दूर करके सरकारी स्कूलों की गुणात्मिक शिक्षा की सही तस्वीर पेश करेंगे।

error: Content is protected !!