जिला स्तर पर गठित की गई विशेष टीमें

परीक्षा की तैयारी के लिए विभाग प्रदान करेगा विद्यार्थियों को मानक शैक्षणिक सामग्री

13 दिसंबर को होने वाली राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा का अधिक से अधिक विद्यार्थियों को लाभ पहुंचाने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग पंजाब ने शिक्षा मंत्री विजय इंद्र सिंगला की सरप्रस्ती में विशेष योजनाबंदी तैयार कर ली है। सचिव स्कूल शिक्षा कृष्ण कुमार की देख -रेख में विद्यार्थियों को उक्त परीक्षा की तैयारी करवाने के लिए विभाग के आधिकारियों, स्कूल मुखियों और अध्यापकों पर आधारित टीमों का गठन किया गया है, जिससे विद्यार्थियों और अभिभावकों को परीक्षा का अधिक से अधिक लाभ लेने के लिए प्रेरित किया जा सके। शिक्षा विभाग की तरफ से परीक्षा की तैयारी का सुचारू संचालन और निगरानी के लिए पठानकोट जिले के जिला शिक्षा अफ़सर (सेकंडरी) से. जगजीत सिंह को ज़िला प्रोजैक्ट डायरैक्टर (एन.टी.एस.ई.) नियुक्त किया गया है। स. जगजीत सिंह ने बताया कि उप -ज़िला शिक्षा अफ़सर सेकंडरी शिक्षा राजेश्वर सलारीया को ज़िला प्रोजैक्ट कोआरडीनेटर (एन.टी.एस.ई.) नियुक्त किया गया है। डायरैक्टर राज्य शिक्षा खोज और प्रशिक्षण परिषद की तरफ से जारी निर्देशों के अनुसार ज़िला मैटर को ज़िला प्रोजैक्ट मैटर (एन.टी.एस.ई.) और ब्लाक मैटर को ब्लाक प्रोजैक्ट मैटर (एन.टी.एस.ई.) और स्कूल प्रमुख को स्कूल प्रोजैक्ट कोआरडीनेटर (एन.टी.एस.ई.) नियुक्त किया गया है।डी.ई.ओ. जगजीत सिंह ने बताया है कि उपरोक्त पदों पर नियुक्त अधिकारी /कर्मचारी स्कूलों में से परीक्षा के लिए दावेदार विद्यार्थियों की पहचान करेंगे। साथ ही ज़िलो के रिसोर्स पर्सन भी राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा की तैयारी के लिए विद्यार्थियों को कोचिंग देने का काम करेंगे। इस संबंधी वह (डी.ई.ओ.) ज़िला, ब्लाक, स्कूल स्तर पर अध्यापकों के साथ मीटिंगों भी करेंगे। उन्होंने बताया कि कोचिंग संबंधी सामग्री तैयार करने के लिए मुख्य दफ़्तर की तरफ से बनाई गई 12 अध्यापकों (विशेषज्ञों) की कोर कमेटी एन.टी.एस.ई परीक्षा की तैयारी के लिए निर्धारित रूपरेखा अनुसार सामग्री तैयार करवा कर पंजाब एजूकेयर एप्प पर अपलोड करवाएगी। जिस का विद्यार्थी लाभ उठा सकते हैं।वर्णनीय है कि इस प्रोजैक्ट की उचित निगरानी और निरीक्षण के लिए 15 दिनों बाद ज़िला शिक्षा अफ़सर (सै.) अपनी टीम के साथ रिविऊ मीटिंग करेंगे और प्रक्रिया संबंधी विभाग की तरफ से की जा रही कोशिशों और विद्यार्थियों को उत्साहित करने के लिए प्रचार प्रसार भी करेंगे। जो विद्यार्थी इस मुकाबलों में सफल होंगे उनके अभिभावकों को वज़ीफ़े संबंधी जिले के अधिकारी और कर्मचारी समय -समय पर अवगत करवाएंगे। इस के साथ ही एस.सी.ई.आर.टी. पंजाब ने पत्र जारी करके स्पष्ट किया है कि परीक्षा में हिस्सा लेने वाले विद्यार्थियों की संख्या को ले कर विभाग ने कोई भी सीमा तय नहीं की है। इस में राज्य के हरेक सरकारी, अर्ध सरकारी, प्राईवेट, एसोसिएट स्कूलों की दसवीं कक्षा में पढ़ते अधिक से अधिक विद्यार्थी भाग ले सकते हैं।इस अवसर पर उप जिला शिक्षा अफसर सेकंडरी शिक्षा राजेश्वर सलारीया और जिला कोआरडीनेटर मीडिया सेल बलकार अत्तरी आदि उपस्थित थे।

error: Content is protected !!