आज वाल्मीकि चौंक पठानकोट में हाथरस पीड़िता को इंसाफ दिलाने के लिए, दलित बच्चों की स्कॉलरशिप की मांग और दलित समाज के लोगों की जमीनों का मालिकाना हक दिलाने के लिए सेंटर वाल्मीकि सभा भारत, भीम आर्मी पंजाब, अंबेडकर मिशन सोसाइटी, सफाई कर्मचारी यूनियन की तरफ से एडवोकेट ज्योति पाल भीम की अध्यक्षता में केंद्र सरकार का विरोध किया गया। जिसमें सेंटर वाल्मीकि सभा की महिला मंडल की प्रधान रमन देवी, अंबेडकर मिशन सोसायटी के प्रधान मनोहर लाल, सफाई कर्मचारी यूनियन के प्रधान रमेश पप्पू, प्रधान सोनू, प्रधान करण, गोल्डी, दीपक, भूपिंदर सिंह रियाल, जुगियल वाल्मीकि सभा के प्रधान, पास्टर सुरेंद्र, प्रधान नंद लाल, खेमचंद, सूरज प्रधान, सनी प्रधान, राजकुमार ,स्कंदर प्रधान भी उपस्थित थे। इस मौके पर एडवोकेट ज्योति पाल भीम ने बताया कि जो हाथरस में वाल्मीकि समाज की लड़की के साथ हुआ है, उसे कभी हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। बाल्मीकि समाज ने हमेशा ही नारी के सम्मान की लड़ाई लड़ी है और इसको भी इंसाफ दिला कर ही रहेंगे। हम किसी भी पार्टी के विरुद्ध नहीं हैं, परंतु जो भी पार्टी दलित समाज के ऊपर जुल्म करेगी, नारी पर जुल्म करेगी, हम उसके विरूद्ध संघर्ष करेंगे और पीड़ित परिवारों को इंसाफ दिलाएंगे। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब अंबेडकर ने संविधान में नारी को सम्मान दिया है,इसके बावजूद भी नारी पर अत्याचार बढ़ रहे हैं ।उन्होंने केंद्र व प्रदेश सरकार को भी चेतावनी दी है कि गरीब लोगों के हक ना छीने जाए। उन्होंने गांव डेयरीवाल और आनंदपुर पठानकोट के दलित लोगों की जो जमीन छीनी जा रही है,उसका विरोध किया है तथा विधायक जोगिंदर पाल को डेयरीवाल में दलित लोगों का साथ देने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि जो पार्टी दलित व नारी का हक छीनने की कोशिश करेगी, उसका पुरजोर विरोध किया जाएगा। उन्होंने पंजाब में जितने भी सफाई कर्मचारी कच्चे काम कर रहे हैं, उनको स्थायी ना करने का विरोध किया। ज्योति पाल ने कहा कि दलित समाज का शोषण बहुत ज्यादा हो रहा है, अगर सरकारों ने इनकी ओर ध्यान नहीं दिया तो संघर्ष तेज किया जाएगा। ज्योतिपाल भीम ने सरकारों को चेतावनी दी है कि जितने भी बच्चों की स्कूल/कॉलेजों में स्कॉलरशिप रोक दी गई है उसे लागू किया जाए। उन्होंने कहा कि जिस समाज के पास सत्ता होती है उसका शोषण नहीं होता, उस पर जुल्म नहीं होते, इसलिए बाल्मीकि समाज को सत्ता की ओर जाना चाहिए तथा भारत में अपनी शक्ति बनानी चाहिए। उन्होंने केन्द्र सरकार को चेतावनी दी है कि अगर हाथरस पीड़िता को इंसाफ ना दिया गया तो बाल्मीकि व दलित समाज उसे कभी माफ नहीं करेगा। इस अवसर पर गीता देवी, किशोर कुमार, डॉक्टर गोल्डी आदि उपस्थित थे।

error: Content is protected !!