केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब में राहुल गांधी की ट्रैक्टर रैली दूसरे दिन संगरूर से शुरु हुई, लेकिन दूसरे दिन मंच पर ना तो कांग्रेस के दिग्गज नेता नवजोत सिंह सिद्धू दिखे और वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल भी गैरहाजिर रहे। लंबे समय बाद रविवार को नवजोत सिंह सिद्धू मोगा से लुधियाना तक की ट्रैक्टर रैली में मंच से लेकर ट्रैक्टर रैली में साथ थे लेकिन दूसरे दिन संगरूर में कांग्रेस की खेती बचाओ यात्रा के नाम से शुरु हुई रैली में नवजोत सिंह सिद्धू नहीं दिखाई दिए।

दरअसल, सिद्धू के संगरूर ना पहुंचने को लेकर चर्चा इसलिए ज्यादा है क्योंकि मोगा में रविवार को लंबे समय के बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी के साथ नवजोत सिंह सिद्धू दिखे थे, लेकिन मंच पर सिद्धू ने कृषि कानूनों को लेकर एक तरफ केंद्र पर निशाना साधा था, तो दूसरी तरफ कैप्टन सरकार से विकल्प पूछे थे।

कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को दूसरे दिन पंजाब में अपनी ट्रैक्‍टर यात्रा में केंद्र सरकार पर फिर जमकर निशाना साधा। राहुल की यात्रा में किसान मजदूर आदती एकता पर जोर दिया जा रहा है। वैसे, राहुल की दूसरे दिन की यात्रा में पंजाब कांग्रेस में सिद्धू को लेकर भी बड़े संकेत मिले। पहले दिन यात्रा में शामिल सिद्धू आज नजर नहीं आए। यात्रा की शुरूआत पर हुई रैली में अन्‍य नेताओं के साथ हरियाणा कांग्रेस के नेता दीपेंद्र सिंह हुड्डा तो आए, लेकिन सिद्धू नहीं पहुंचेे।  इससे सिद्धू को लेकर कयासबाजी फिर तेज हो गई है।

मोगा में आखिर क्या हुआ था?

सिद्धू मंच से मोगा में संबोधन दे रहे थे, तभी पंजाब के कैबिनेट मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने सिद्धू के सामने कागज रखा, जिसपर सिद्धू ने कहा कि पाजी मत रोको, सिद्धू ने ये तक कहा कि पहले ही बैठा रखा था। पंजाब में कांग्रेस को एकजुट करने की जिम्मेदारी प्रदेश कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत के पास है, हरीश रावत रविवार को तो सिद्धू को मंच पर ले आए लेकिन सोमवार को सिद्धू गैर हाजिर रहे

By Desk

error: Content is protected !!