मुकेरियां : फ्रेंड्स कालोनी में शुक्रवार देर रात करीब 12 बजे दामाद ने ससुराल घर की गली में हंगामा करने के बाद सास के ऊपर इनोवा गाड़ी चढ़ा दी। जख्मी हालत में उसे इलाज के लिए मुकेरियां सिविल अस्पताल लाया गया,जहां से उसकी हालत गंभीर के चलते उसे होशियारपुर रेफर कर दिया गया। यहां रास्ते में ले जाते उसकी मौत हो गई। मृतक महिला की पहचान सुषमा रानी (57) पत्नी विजय कुमार के तौर पर हुई है।

आरोपी ने 3 बार सास पर गाड़ी चढ़ाई। घटना की सूचना के बाद मौके पर पहुंचे, एसएचओ बलविंदर सिंह ने बताया कि मृतक के परिवार के सदस्यों के बयानों के आधार पर आरोपी दामाद रोहित निवासी आदर्श कालोनी के खिलाफ धारा 302 के तहत मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी सरकारी स्कूल में अध्यापक है और उसकी पत्नी भी सरकारी अध्यापिका है। पत्नी का आरोप है कि पति नशा करता है। वह एक साल से मायके में रह रही है।

टक्कर मारने के बाद बोला-मुझे 5 खून माफ हैं…पूरे परिवार को खत्म कर दूंगा
मृतक के पति विजय शर्मा ने बताया कि पत्नी काे टक्कर मारने के बाद दामाद गाड़ी से निकलकर आया और धमकियां देते हुए कहा कि मुझे 5 खून माफ हैं, मैं आज सारे परिवार को मारकर जाउंगा। दामाद ने मुकेरियां के सिविल अस्पताल में आकर भी इमरजेंसी ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर्स को धमकाया व गाली-गलौज किया।

मृतक के पति ने बताया-रात को दामाद आया व गालियां देते हुए गेट खटखटाने लगा, हम उसे समझाने निकले थे

मृतक के पति विजय शर्मा ने बताया कि उनकी बेटी ज्योति शर्मा का विवाह नवंबर 2008 में रोहित वशिष्ठ निवासी आदर्श कालोनी हाजीपुर से हुआ था। शुक्रवार देर रात करीब 12 बजे हमारे दामाद ने गली में आकर गाली-गलौज व हंगामा करना शुरू कर दिया और मारने की धमकियां देने लगा। हंगामा सुनकर सभी मोहल्लावासी एकत्रित हो गए।

जब काफी देर तक हमने घर का गेट नहीं खोला तो उसने हमारे गेट जोर-जोर से खटखटाना शुरू कर दिया। जब हमने गेट खोला व उसको समझाने की कोशिश की तो उसने तैश में आकर इनोवा गाड़ी (पीबी-07-बीवी -3712) को तेज रफ्तार से लाकर हमारे ऊपर चढ़ाने की कोशिश। 3 बार पत्नी को जोरदार टक्कर लगी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई। वहीं, गाड़ी आगे जाकर पलट गई।

ज्योति ने आरोप लगाया कि प्रॉपर्टी और गाड़ी मेरे नाम पर होने को लेकर जेठ-जेठानी और सास-ससुर ने मेरे पति को मेरे खिलाफ भड़काते थे। उनके कहने पर पति ने गाड़ी को मेरे बीमार होने का बहाना बनाकर बेच दिया और अपने नाम पर इनोवा नई गाड़ी ले ली। पति ने नशे में कई बार मेरे साथ मारपीट की। इसे लेकर कई बार मैंने हाजीपुर पुलिस को कंप्लेंट भी की।

रिश्तेदारों सहयोगी अध्यापकों के समझाने पर हम दोनों ने फिर इकट्ठे रहना शुरू कर दिया। 6 अक्टूबर 2019 और 15 फरवरी 2020 को मेरे पति ने नशे की हालत में फिर से मेरे साथ मारपीट की। इसके चलते 15 फरवरी 2020 से वह अपने मायके आकर रहने लग गई और करीब एक साल से वह मायके में ही रह रही है। इससे पहले भी मेरे पति ने मुझे फोन पर धमकियां दी थीं। जेठ और जेठानी बार-बार मेरा 16 साल का लड़का गोद लेने के लिए दबाव डालते थे।

By Desk

error: Content is protected !!