*पठानकोट की सबसे बड़ी दाना मंडी सरना में पानी और *सेनिटाइजर की कमी पर आढ़तियों ने जताई नाराजगी

*सरना दाना मंडी में नाराजगी जताते किसान और आढ़ती
*सरना दाना मंडी में धान लेकर पहुंचे किसान

पठानकोट की सबसे बड़ी सरना दाना मंडी में पैडी सीजन की फसल की आमद शुरू हो गई है। किसान भी मंडियों का रुख करने लगे हैं। लेकिन मार्केट कमेटी की बदइंतजामी से किसान और आढ़ती दोनों परेशान हैं। मार्केट कमेटी की ओर से मंडी में न तो सेनिटाइजेशन करवाई गई और न ही पानी का प्रबंध किया गया है। जिसके चलते आढ़तियों ने मार्केट कमेटी अधिकारियों के प्रति नाराजगी जताई है। मंगलवार को सरना दाना मंडी में कुछ किसान धान लेकर पहुंचे। आढ़ती यूनियन सरना दाना मंडी के प्रधान राजीव कुमार ने कहा कि मंगलवार को आमद शुरू हुई पर अधिकारियों ने कोई तैयारी नहीं की है। आढ़ती अपने स्तर पर इंतजाम कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि मार्केट कमेटी की ओर से सेनिटाइजर का छिड़काव नहीं करवाया गया। पीने के पानी का इंतजाम तक नहीं है। जिसके चलते किसान भी परेशान हैं। उन्होंने बताया कि पिछले 30 मंडी में फर्श डलवाने की मांग की जा रही है। लेकिन सिवाए आश्वासनों के कुछ नहीं मिला। उन्होंने कहा कि 17 आढती यहां पर मंडी लगाते हैं। कई गरीब परिवारों को रोजी-रोटी चलती है। उन्होंने कहा कि आगर सीजन के दौरान बारिश आए तो जमींदारों की मेहनत पर पानी फिर जाता है। बताया कि वह विधायक जोगिंद्रपाल से मिले, अधिकारियों के सामने फरियाद की पर किसी ने उनकी मांगों पर गौर नहीं किया। वहीं, उन्होंने कृषि कानून को गलत ठहराते कहा कि आज देश कोरोना वायरस जैसी भयानक महामारी से पूरा देश जूझ रहा है। किसानों ने महामारी के दौर में गेहूं की उपज कर पूरे देश का पेट पाला आज वही किसान सड़कों पर उतर चुका है। कहा कि किसान कोरोना महामारी से ना मरे लेकिन मोदी सरकार के इस कानून की वजह से जरूर मर जाएगा।

error: Content is protected !!