शहीद भगत सिंह नौजवानों के लिए बने रहेंगे प्रेरणास्रोत – रॉकी मेहरा 

नेहरू युवा केंद्र युवा मामले एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार जिला गुरदासपुर के जिला यूथ कोआर्डिनेटर अल्का रावत जी के दिशानिर्देशों के अनुसार नेहरू युवा केंद्र ब्लॉक घरोटा व पठानकोट की ओर से शहीद भगत सिंह के जयंती के उपलक्ष्य  में एक श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन गांव भोआ में प्रयास सोशल वेलफेयर सोसाइटी के सहयोग से सोसाइटी अध्य्क्ष व नेहरू युवा केन्द्र ब्लॉक् पठानकोट व घरोटा के  एन.वाई.वी रॉकी मेहरा की अध्यक्षता में किया गया जिसमें विशेष तौर पर नौजवानों ने हिस्सा लिया, श्रदांजलि कार्यक्रम की शुरुआत शहीद भगत सिंह की प्रतिमा को पुष्पमाला पहनाकर व ज्योति प्रज्वलित कर की गई , इस अवसर पर  नौजवानों की ओर से शहीद भगत सिंह के जीवन के उपलक्ष में विचार प्रस्तुत किए गए श्रद्धांजलि कार्यक्रम को संबोधित करते हुए एन. वाई.वी व प्रयास वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष रॉकी मेहरा ने कहा किअमर शहीद सरदार भगत सिंह का नाम कौन नहीं जनता, जब भी अमर शहीद सरदार भगत सिंह का नाम लिया जाता है तो दिल में इनके लिए अपार श्रद्धा उमड़ जाती है और सिर सम्मान में झुक जाता है I मेहरा ने कहा कि शहीद भगत सिंह जी का जन्म 1907 में लायपुर जिले के एक गांव में सरदार किशन सिंह के घर में हुआ I इनका परिवार शूरवीरता के लिए माना जाता थाजिसकी वजह से वह क्रांतिकारियों से मिल गये और देश को आजाद कराने में जुट गए लाला लाजपतराय राय की हत्या का बदला लेने के लिए भगत सिंह और उनके दोस्तों ने स्कॉट सांडर्स को गोलियों से भून दिया I फिर भगत सिंह ने लोकसभा में बम फेंका, पर बम ऐसी जगह फेंका कि किसी को चोट न लगे I फिर इन्होने असेंबली में पर्चे फेंके और इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगाये जिनकी वजह से इन्हें पकड़ लिया गया और 1931 को भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव तीनो को फांसी दे दी गयी I जल्द ही इनकी शहादत रंग लायी और भारत आज़ाद हो गया, इस अवसर पर तनवी मेहरा आकृति वरुण सूरज करण दीप सिंह हरनूर सिंह ध्रुव माधवन भारती मानव अभिनंदन कृष गौरव तनीषा चरणजीत कौर प्रताप सिंह उपस्थित रहे I

error: Content is protected !!