मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि विधेयकों के विरोध में अकाली दल ने सत्ताधारी एनडीए गठबंधन से अलग होने का फैसला ले लिया है.

कृषि बिलों की वजह से एनडीए में फूट पड़ गई है। शिरोमणि अकाली दल एनडीए से अलग हो गया है। 9 दिन पहले हरसिमरत कौर ने मोदी सरकार में मंत्री पद से इस्तीफा दिया था।

हाल में पास हुए कृषि बिलों को लेकर मोदी सरकार की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही है। कृषि बिलों का विरोध कर रहे अकाली दल ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) से अलग होने का एलान कर दिया है।

शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि ‘हम एनडीए का हिस्सा नहीं हो सकते हैं जो इन अध्यादेशों को लाया है। यह सर्वसम्मति से फैसला लिया गया है कि शिरोमणि अकाली दल अब एनडीए का हिस्सा नहीं है।
शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) की ओर से कहा गया है कि ‘पार्टी ने एमएसपी पर किसानों की फसलों के सुनिश्चित विपणन की रक्षा के लिए वैधानिक विधायी गारंटी देने से मना करने के कारण भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन से अलग होने का फैसला किया है। पंजाबी और सिख मुद्दों के प्रति सरकार की असंवेदनशीलता भी इसकी एक वजह है।’

By Desk

error: Content is protected !!