• एटीजीएम का टेस्ट फायर मंगलवार को अहमदनगर के केके रेंज में हुआ, इसने तीन किमी दूर टारगेट पर सटीक निशाना लगाया
  • एटीजीएम में हाई एक्सप्लोसिव एंटी टैंक वॉर हेड का इस्तेमाल किया गया है, यह बख्तरबंद टैंकों को भी तबाह कर सकती है

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल (Laser-Guided Anti Tank Guided Missile) का किया सफल परीक्षण। इसे महाराष्ट्र के अहमदनगर में एमबीटी अर्जुन टैंक से फायर किया गया। इस टेस्ट के दौरान एंटी टैंक मिसाइल ने तीन किलोमीटर दूरी पर मौजूद लक्ष्य को सफलतापूर्व नष्ट किया।

डीआरडीओ की सफलता पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बधाई दी है। राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा, अहमदनगर में केके रेंज (एसीसी एंड एस) में एमबीटी अर्जुन से लेजर गाइडेड एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है। भारत को डीआरडीओ पर गर्व है जो निकट भविष्य में आयात निर्भरता को कम करने की दिशा में काम कर रहा है।

डीआरडीओ के मुताबिक कई-प्लेटफ़ॉर्म लॉन्च क्षमता के साथ इसे विकसित किया गया है और वर्तमान में एमबीटी अर्जुन में लगी बंदूक से फयर कर इसका तकनीकी मूल्यांकन किया जा रहा है।
अभ्यास लड़ाकू ड्रोन का सफल परीक्षण

इससे पहले मंगलवार को ओडिशा के बालासोर में डीआरडीओ ने अभ्यास लड़ाकू ड्रोन का सफल परीक्षण किया था। अभ्यास एक हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टार्गेट (HEAT) है, जिसे एडीई में विकसित किया गया है। डीआरडीओ के मुताबिक, यह हथियार प्रणालियों को परीक्षण के लिए एक रियलिस्टिक खतरा सीनेरियो देता है, जिसकी मदद से विभिन्न मिसाइलों या हवा में मार करने वाले हथियारों का परीक्षण किया जा सकता है। अभ्यास लड़ाकू ड्रोन को ऑटोपायलट की मदद से स्वायत्त उड़ान के लिए तैयार किया गया है।

By Desk

error: Content is protected !!