पठानकोट में रविवार को एक कॉलेज प्रोफेसर ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। पुलिस को मौके से सुसाइड नोट भी मिला है। इसमें लिखा है- पत्नी और बच्चों को छोड़कर जाने का दिल तो नहीं करता, पर मजबूर हूं। पापा बुला रहे हैं।

पठानकोट के स्थानीय कॉलेज के लगभग 50 वर्षिय फिजिक्स के प्रोफेर्स सुरिंदर कालिया ने फंदा लगा देर रात की खुदखुसी,खुदकुशी करने वाले प्रोफसर कालिया के जेब से सुसाइट नॉट मिला जिसमे लिखा था,यह कदम मैं खुद उठा हूं,मेरी मौत के बारे मे किसी से भी कुछ पूछा न जाये,मुझे मेरे पापा बुला रहें है मैं उनके पास जा रहा हुं। मोके पर डिवीजन नम्बर 2 की पुलिस ने लाश को सिविल हॉस्पिटल भेज मामले की तफ्तीश जारी कर दी है।

मृतक की पहचान शहर के कालिया कॉलोनी निवासी सुलिंदर के रूप में हुई है। वह एक कॉलेज में प्रोफेसर थे। जांच अधिकारी के मुताबिक मौके से मिले सुसाइड नोट में प्रोफेसर ने अपनी मौत का जिम्मेदार खुद को ही बताया है।

सुसाइड नोट में लिखा है, ‘मैं यह खौफनाक कदम खुद ही उठा रहा हूं। पत्नी अनु और बच्चों को छोड़कर जाने का दिल नहीं कर रहा, लेकिन मुझे पापा बुला रहे हैं। मेरी परिवार और ससुरालजनों से हाथ जोड़कर विनती है कि मुझे माफ कर दें। मैं मजबूर था।’

By Desk

error: Content is protected !!