मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भले ही सरकारी अस्पतालों में कोविड मरीजों को अच्छी सेहत सेवाएं दिए जाने के बड़े-बड़े दावे करें, लेकिन उनके अपने ही जिले के हाल बुरे हैं। शुतराणा हलके के संक्रमित विधायक निर्मल सिंह ने सीएम के इन दावों की पोल खोल दी है। विधायक शुतराणा सरकारी राजिंदरा अस्पताल में साफ-सफाई की कमी के कारण निजी अस्पताल में भर्ती हो गए हैं।

28 अगस्त को चंडीगढ़ में पटियाला के शुतराणा हलके के विधायक निर्मल सिंह का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था। उसके बाद से वह अपने घर में ही क्वारंटीन थे। दो दिन पहले उन्हें सांस लेने में तकलीफ हुई। इसके बाद वह सरकारी राजिंदरा अस्पताल के कोविड वार्ड में शिफ्ट हो गए थे। इस बाबत पूछे जाने पर विधायक ने कहा कि सरकार चाहे जो भी दावे करे, लेकिन राजिंदरा के कोविड वार्ड में साफ-सफाई का प्रबंध बिल्कुल नहीं है।
शौचालय बहुत गंदे थे। डाक्टर भी दिन में एक-दो बार ही विजिट करते हैं। कोविड मरीजों की देखरेख का जिम्मा निचले स्टाफ पर छोड़ रखा है। इन्हीं कारणों के चलते शनिवार शाम को वह एक निजी अस्पताल में शिफ्ट हो गए जहां उनके सारे टेस्ट किए गए। अब वह बेहतर महसूस कर रहे हैं। वहीं सिविल सर्जन डॉ. हरीश मल्होत्रा ने इस बारे में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि राजिंदरा अस्पताल के बारे में वहां के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट ही बताएंगे।


By Desk

error: Content is protected !!