कोरोना संक्रमितों की संख्या और मौत के हिसाब से भारत दुनिया का तीसरा सबसे प्रभावित देश है. लेकिन कोरोना मामले बढ़ने की रफ्तार सबसे तेज भारत में है.भारत में एक दिन में मिले 83 हजार से ज्यादा कोरोना मरीज, कुल केस 39 लाख के पार, 68 हजार की मौत

कोराना वायरस (Coronavirus) ने भारत में तबाही मचा रखी है. हर दिन रिकॉर्ड संख्या में मरीज़ सामने आ रहे हैं. भारत में मरीजों की संख्या 39 लाख के पार पहुंच गई है. अगले एक से दो दिनों में भारत ब्राजील (Brazil) को छोड़ कर मरीजों के मामले में दूसरे नंबर पर पहुंच जाएगा. फिलहाल सबसे ज्यादा मरीजों की संख्या के मामले में अमेरिका और ब्राजील के बाद भारत का नंबर है. भारत में एक दिन में सबसे ज्यादा मरीजों का रिकॉर्ड 83883 है. पिछले तीन दिनों से इससे थोड़े कम संख्या में कोरोना के नए केस सामने आ रहे हैं. लेकिन दुनिया के बाकी देशों से तुलना की जाए तो पीक के मुकाबले ये औसत काफी ज्यादा है.

दूसरे देशों के मुकाबले भारत का हाल
भारत में 3 सितंबर को 3 दिनों का औसत केस 77387 था. ये आंकड़ा पीक संख्या यानी 83883 के मुकाबले 92.3% है. दुनिया के बाकी देशों में ये संख्या इतनी ज़्यादा नहीं है. फिलिस्तीन, इजरायल, इंडोनेशिया, जॉर्डन, परागुआ और इराक़ को छोड़ कर पीक संख्या के मुकाबले मरीजों की औसत संख्या 80 फीसदी से ज्यादा नहीं है. अमेरिका में पिछले तीन दिनों का औसत पीक संख्या 50 फीसदी से कम है. ब्राजील में ये आंकड़ा 65.4% है. रुस में 38.7% और पेरू में ये आंकड़ा 53.5% है.

कोरोना का पीक
अगर कोरोना के सबसे ज्यादा मरीजों की संख्या यानी पीक की बात की जाए तो अमेरिका में कोरोना का पीक 40 दिन पहले आया था. ब्राजील में 35 दिन पहले जबकि रूस में सबसे ज्यादा मरीजों की संख्या 47 दिन पहले दर्ज की गई थी. जबकि पेरू और कोलंबिया में 15 दिन पहले कोरोना का पिक दिखा था. इसका मतलब ये नहीं है कि अब यहां मरीजों की संख्या फिर से नहीं बढ़ेगी. बल्कि स्पेन में देखा गया है कि पांच महीने बाद कोरोना ने वापसी की तो सारे रिकॉर्ड टूट गए.

By Desk

error: Content is protected !!