कोरोना महामारी के चलते सरकार ने एयरलाइंस को फ्लाइट में खाना सर्व करने की इजाजत दे दी है। लेकिन, मास्क नहीं पहनने वाले यात्रियों से सख्ती से निपटा जाएगा। एविएशन रेग्युलेटर, डायरेक्ट्रोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) ने एयरलाइंस से कहा है कि कोई पैसेंजर मास्क नहीं पहने तो अपने हिसाब से फैसला लेकर उसका नाम नो-फ्लाई लिस्ट में डाल सकते हैं। यानी उसकी हवाई यात्रा पर कुछ समय के लिए रोक लगाई जा सकती है।

नई गाइडलाइंस के अनुसार डोमेस्टिक फ्लाइट में पैक्ड स्नैक्स, खाना और बेवेरेजेज दिए जा सकेंगे। इंटरनेशनल फ्लाइट में गर्म खाना दे सकेंगे। घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में एयरलाइंस को सिंगल यूज ट्रे, प्लेट्स और कटलरी इस्तेमाल करनी होगी। खाना-पीना देने से पहले क्रू मेंबर को हर बार ग्लव्ज बदलने होंगे। फ्लाइट में यात्रियों के मनोरंजन की छूट होगी, लेकिन उन्हें डिस्पोजेबल ईयरफोन या डिसइन्फेक्टेड हेडफोन देने होंगे तथा कोई पैसेंजर मास्क पहनने के मना करेगा तो एयरलाइंस उसका नाम नो-फ्लाई लिस्ट में डाल सकती हैं।

कोरोना की वजह से 2 महीने घरेलू उड़ानें बंद रखने के बाद सरकार ने 25 मई से फिर से शुरू करने की छूट दी थी, लेकिन शुरुआत में फ्लाइट में खाना देने की इजाजत नहीं दी गई थी। वहीं स्पेशल इंटरनेशनल फ्लाइट्स में दूरी के हिसाब से प्री-पैक्ड खाना और स्नैक्स दिए जा रहे थे।

इंटरनेशनल फ्लाइट्स 23 मार्च से ही बंद हैं। विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने के वंदे भारत मिशन के तहत एयर इंडिया के विमान ही दूसरे देशों में जा रहे हैं। सरकार ने पिछले दिनों कुछ देशों के साथ एयर बबल के तहत भी उड़ानें शुरू की हैं।

By Desk

error: Content is protected !!