बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान (Aamir Khan) तुर्की के राष्ट्रaपति की पत्नी से क्या मिले, वो एक बार फिर विवाद का कारण बन गए हैं। उन्हें कथित रूप से देश का दुश्मन, चीन का प्यारा और दुश्मन का दोस्त कहा जाने लगा है।

इस बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के मुखपत्र पांचजन्य (Panchjanya) में आमिर खान को लेकर लेख लिखा है जिसमें उनसे तीखे सवाल किए गए हैं।

शत्रु देश से दोस्ती बढ़ाने पर ट्रोल हो रहे आमिर, तुर्की के राष्ट्रपति की पत्नी ने शेयर की Tasveer

ड्रैगन का प्यारा खान
आरएसएस के मुखपत्र में आमिर खान को लेकर ‘ड्रैगन का प्यारा खान’ के टाइटल से एक लेख लिखा गया है, जिसमें आमिर पर निशाना साधा गया है। लेख में आमिर के बारे में बात करते हुए कहा गया कि आजादी से पहले और बाद में लगातार देशभक्ति की फ़िल्में बनती रहीं लेकिन फिर सिनेमा को पश्चिम की हवा लगी और ये नेपथ्य में चली गईं। लेकिन पिछले 5-6 सालों से देशभक्ति की फ़िल्मों का उभार आया, लेकिन दूसरी तरफ ऐसे अभिनेता और फ़िल्मकार भी हैं जिन्हें अपने देश से दुश्मनी पालने वाले चीन और तुर्की जैसे देश ज्यादा पसंद है।

कंगना रनौत का आमिर खान पर तीखा हमला, धर्मनिरपेक्षता पर उठाया सवाल

आमिर की फिल्में ही क्यों चलती हैं
इतना ही इस लेख में कहा गया है कि तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एरदुगान, मुस्लिम उम्मा का खलीफा बनने को बेताब है और उनकी पत्नी के साथ आमिर खान की फोटो वायरल हो रही है। चीन में आमिर खान की फिल्में क्यों शानदार कारोबार करती हैं जबकि दूसरे सितारे और निर्माता असफल हो रहे हैं। इतना ही नहीं, आमिर खान चीनी वीवो मोबाइल के ब्रांड एंबेसेडर हैं जो सुरक्षा नियमों की अनदेखी करता है और भारत में बैन है।

क्यों सुल्तान चाट गई धूल
आरएसएस के मुखपत्र में लिखे इस लेख में ये भी सवाल उठाया गया है कि ऐसा क्यों है कि आमिर खान की ‘दंगल’ चीन में खूब कमाई करती है लेकिन उसी विषय वस्तु की सलमान खान (Salman Khan)की फिल्म ‘सुल्तान’ धूल चाट जाती है। अगर आमिर खान खुद को सेक्युरलर मानते हैं तो तुर्की में शूटिंग करने की क्यों सोच रहे हैं जबकि वह देश तो जम्मू-कश्मीर पर पाकिस्तान का समर्थन करता है।

लेख में ये भी कहा गया है कि लोग आमिर खान का वह इंटरव्यू अभी नहीं भूले हैं जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘मेरी पत्नी किरण राव को भारत में डर लगता है और भारत में असहिष्णुता बढ़ गई है।

‘फर्जी’ इंटरव्यू के सभी दावों को खारिज करते हुए आमिर खान ने कहा- मेरे बच्चे हमेशा…

क्या चीन के इशारे पर आमिर?
इस पत्रिका में ये भी कहा गया है कि आमिर एक ऐसे देश के नेता के इशारे पर क्यों चल रहे हैं जिसके शासन में पत्रकारों को सबसे ज्यादा संख्या में कैद किया गया है। चीन के लिए मानवाधिकारों का उल्लंघन करना आम बात है और वहां सोशल मीडिया पर कभी भी पाबंदी लगा दी जाती है।

By Desk

error: Content is protected !!